Harak Singh Rawat : नाराज होने वाले हरक सिंह रावत से क्यों रूठी भाजपा? क्या कांग्रेस का थामेंगे दामन?

Uk Tak News

Harak Singh Rawat : उत्तराखंड विधानसभा चुनावों के पास आते ही भाजपा में उथल-पुथल मची हुई है। अब भाजपा ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया है, साथ ही मंत्रिमंडल से भी बर्खास्त कर दिया है। पिछले कई दिनों से हरक सिंह रावत भाजपा से नाराज चल रहे थे। वहीें सियासी जानकारों की मानें तो उनके कांग्रेस में जाने की खबरेें भी सामने आ रही थी। अब प्रदेश में राजनीति में बड़ा फेरबदल देखने को मिल स​कता है।

Harak Singh Rawat

ये रहा कारण
Harak Singh Rawat : दरअसल हरक सिंह रावत भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में शामिल होने की बजाय दिल्ली में थे। कहा जा रहा है कि वो अपनी पुत्रवधू अनुकृति गुसांई के लिए टिकट मांगने गये थे। लेकिन राज्य में कुछ ऐसे राजनीतिक समीकरण बने की भाजपा ने हरक सिंह रावत बर्खास्त कर दिया। हलाकिं सीएम पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि इस कार्रवाई के पीछे की वजह है कि हरक सिंह रावत कई सीटों पर टिकट के लिए अड़े थे। सीएम धामी ने साफ कहा है कि हम एक परिवार से दो लोगों को टिकट नहीें देंगे। हमारी पार्टी ‘एक परिवार-एक टिकट’ पर ही रहेगी।

Harak Singh Rawat :

Harak Singh Rawat

क्या काग्रेंस में होंगे शामिल
Harak Singh Rawat : पुष्कर सिंह धामी के मुख्यमंत्री बनने पर हरक सिंह रावत के नाराज हुए थे। वहीं पार्टी की तरफ से उन्हें कई बार मनाने की कोशिश की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अमित शाह और जेपी नड्डा ने भी कई बार उन्हें मनाया है। लेकिन इस बार रूठे हरक सिंह रावत को मनाया नहीं, जबकि बर्दाश्त करने का निर्णय लिया। सियासी गलियारों ने हल्ला है कि हरक सिंह रावत और उनकी पुत्रवधू अनुकृति गुसांई आज दिल्ली में कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं ,साथ ही उनके साथ कई विधायक भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं।

 

ये भी पढ़े : उत्तराखण्ड में कोरोना की रफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published.